अध्याय 8 ~ येशु मसीह का सुसमाचार!

अब तक आप समझ गए होंगे कि आप बहुत बुरी हालत में हैं। हम झूठ बोलते हैं और धोखा देते हैं, खुद को भी और दूसरों को भी। हम ना ही बात मानते है और ना ही भरोसे के लायक हैं। हम दूसरे लोगों को चोट पहुँचाते हैं और समय-समय पर अपने सृष्टिकर्ता का अपमान करते हैं। जिस तरह हम जीवन जीते है, परमेश्वर का हमसे कोई लेना देना नहीं हो सकता। उसे हमारे कामों के लिए हमें सजा देनी चाहिए। हम उसे वह इज्जत नही देते जिसका वह हकदार है। भले ही आपने एक अच्छा जीवन जीने की पूरी कोशिश की हो, फिर भी आपके अतीत की गलतियाँ आपको परेशान करेंगी।

इसलिये कि सब ने पाप किया है और परमेश्‍वर की महिमा से रहित हैं। रोमियों 3:23

हमारे इज्जत की कमी और हमारी सभी बुरी चीजों की वजह से, हम ईश्वर का सामना नहीं कर सकते। हम बेकार हैं और आध्यात्मिक रूप से हम मरे हुए है।

क्योंकि पाप की मजदूरी तो मृत्यु है, परन्तु परमेश्‍वर का वरदान हमारे प्रभु मसीह यीशु में अनन्त जीवन है। रोमियों 6:23

आखिर में, हमारा व्यवहार हमें मौत की ओर ले जाएगा। हमारी ज़िंदगी का यहीं इसी दुनिया में खात्मा हो जाना हैं। लेकिन मौत हमारे आध्यात्मिक जीवन का अंत नहीं है। एक दिन हमें अपने व्यवहार का हिसाब देने के लिए बुलाया जाएगा।

पर तू अपनी कठोरता और हठीले मन के कारण उसके क्रोध के दिन के लिये, जिसमें परमेश्‍वर का सच्‍चा न्याय प्रगट होगा, अपने लिये क्रोध कमा रहा है। वह हर एक को उसके कामों के अनुसार बदला देगा। रोमियों 2:5-6

मौत आखिरकार आपके व्यवहार का नतीजा है। यह बात बहुत जरूरी है जिसे आपको समझना है। जब तक आप जिंदा हैं, आपके पास ईश्वर के साथ मेल-मिलाप होने की गुंजाइश है।

यह वह नहीं है जो परमेश्वर चाहता है

यह लगभग अविश्वसनीय है कि ईश्वर आपके व्यवहार के बावजूद आपसे प्यार करते हैं। मुझे आशा है कि आपको अपने जीवन जीने के तरीके पर पछतावा होगा। मुझे आशा है कि आप अपने और अपने सृष्टिकर्ता के बीच चीजों को ठीक करने के लिए एक रास्ता खोजने के लिए तरसेंगे।

यदि आप इसके बारे में सोचते हैं, तो आप महसूस करेंगे कि आप चीजों को खुद ही ठीक नहीं कर सकते। अगर आप अपने पिछले व्यवहार पर पछतावा करते हैं, और अगर आप ईमानदार हैं, तो आप जानते हैं कि आप भविष्य में और भी गलतियाँ करेंगे।

परमेश्वर के उद्धार की योजना।

फिर भी परमेश्वर लोगों से प्रेम करता है, भले ही हम लायक ना हों।

शुरू से ही उसके पास हमारे और उसके बीच की खाई को पाटने की योजना थी। एक योजना जो हमारे लिए उनके हैरतअंगेज रूप से महान प्रेम को दिखाती है।

सबसे पहले, मैं आपको संक्षेप में परमेश्वर की योजना के बारे में बताऊंगा। आगे चलकर, मैं आपको और बताऊंगा।

~ परमेश्वर की मुक्ति की योजना ~

माफी के बिना हमारा भविष्य अंधकारमय है। हमने अपने सृष्टिकर्ता का अपमान किया है और आत्मिक रूप से मृत हो गये। हम अंधेरे में रहते हैं, परमेश्वर से बहुत दूर। लेकिन यह वह उद्देश्य नहीं है जिसके लिए उसने हमें बनाया है।

सृष्टि के आरम्भ से ही हमें विनाश से बचाने के लिए परमेश्वर को दखलअंदाजी करनी पड़ी। इसलिए वे खुद इस धरती पर आए। वह इंसान बना और उसका नाम यीशु मसीह था। उसे ईश्वर का पुत्र (प्रतिनिधि) भी कहा जाता हैं। वह एकलौता ऐसा इंसान था जो कभी भी पाप के बिना और परमेश्वर का अनादर किए बिना ज़िंदा रहा। वह ऐसा कर सकता था, क्योंकि वह खुद परमेश्वर था।

उसकी मुक्ति की योजना अविश्वसनीय और प्रेम से भरी है। वह अपनी सेवा करवाने के लिए इस दुनिया में नहीं आया था। वह हमारे अपमानजनक व्यवहार के लिए हमें सजा देने नहीं आया था। नहीं, वह हमारे लिए अपना महान प्रेम दिखाने आया था। इसलिए नहीं कि हम इसके लायक हैं, बल्कि इसलिए कि वह हमसे प्यार करता है और उसे हमसे हमदर्दी है।

उसने खुद को मनुष्य द्वारा बेइज्जत होने दिया और खुद क्रूस पर मृत्युदंड भी लिया। क्रूस पर उसने न केवल असहनीय शारीरिक दर्द सहा, बल्कि उसने परमेश्वर के गुस्से और न्याय को भी बर्दाश्त किया। उसने हमारी सजा खुद झेली। क्रूस पर उसने परमेश्वर द्वारा त्याग दिए गये तजुर्बे को महसूस किया।

यह साबित करने के लिए कि वह मौत से बड़ा और शक्तिशाली है, वह तीन दिनों के बाद कब्र से जी उठा। इस तरह उसने मौत को बेअसर कर दिया। परमेश्वर की इज्जत को फिर से बहाल किया गया था।

यह हमारे लिए ईश्वर का सबसे खास तोहफा है। उनके पुत्र यीशु मसीह की मौत और पुनरुत्थान के ज़रिये हमारे सभी पापों को माफ कर दिया गया है। अगर आप भरोसा करते हैं कि यीशु मसीह मरा और आपके लिए जिलाया गया, तो आप अपनी सारी गंदगी से धोए जाएंगे। आप परमेश्वर की रहम हासिल करेंगे, आपके पापों का जिम्मा आपके ऊपर नहीं लगेगा और आपको धर्मी टहराया जाएगा।

अगर आप अपने पाप, अपनी गंदगी और अपने सृष्टिकर्ता परमेश्वर की बेइज़्ज़ती करने से पश्चाताप करते हैं, तो आप बचाए जाएंगे। अगर आप उसके बेटे यीशु मसीह के ज़रिये परमेश्वर के माफी के तोहफे को अपनाते हैं, तो आप यीशु के ज़रिये अपराध और मौत से बरी हो जाएंगे। आप अपनी सारी गंदगी से धोए जाओगे।

आध्यात्मिक रूप से, आप उसके साथ मरेंगे और फिर से नया जन्म लेंगे। आपको एक नया (आध्यात्मिक) जीवन हासिल होगा। आप ईश्वर के साथ और उनके लिए रह सकते हैं। उसकी मदद से, आप दिल से उसकी सेवा करने में काबिल होंगे। वह आपको उसकी इच्छा के अनुसार जीने में मदद करेगा। उसके प्रेम से, आप अपने आस-पास के दूसरे लोगों की सेवा कर सकते हैं, ठीक उसी तरह जैसे उसने आपकी सेवा की।

आपको परमेश्वर की सन्तान कहलाने का भी सम्मान मिलेगा। आपको अनन्त जीवन मिलेगा। भविष्य में, आप स्वर्ग में परमेश्वर के साथ रह सकते हैं। अब इस जीवन में, वह अपनी पवित्र आत्मा के साथ आपके साथ रहेगा।

लेकिन अगर आप उस तोहफे को ठुकराते हैं जो परमेश्वर आपको यीशु मसीह के ज़रिये देना चाहता है, तो आपको अपने कर्मों और अपनी अवज्ञा का नतीजा खुद भुगतना होगा।

मैं कल्पना कर सकता हूं कि यह संक्षिप्त सारांश कई सवाल उठाता है। इसलिए मैं आपको परमेश्वर की मुक्ति की योजना के बारे में और ज़्यादा खुल के बताना चाहूँगा।

सबसे पहले क्या हुआ था

सृष्टि के शुरुआत से ही यह साफ जाहीर था कि इंसान फिर कभी परमेश्वर के पास नहीं आ सकता, क्योंकि उसने स्वतंत्र रूप से अपने सृष्टिकर्ता की अवज्ञा करने का रास्ता चुना। हम आध्यात्मिक अंधकार में जीने के लिए शापित थे।

बाइबिल में आप पाएंगे कि इतिहास के ज़रिये एक उद्धारकर्ता के आने का ऐलान किया गया है। सृष्टि के कुछ ही समय बाद से लगभग 2,000 साल पहले तक, ऐसी भविष्यवाणियाँ थीं कि एक उद्धारकर्ता मनुष्य को उसके भाग्य से मुक्त करने के लिए आएगा। इस उद्धारकर्ता को मसीहा (अर्थात् अभिषिक्त, या राजा) कहा जाता था। 1 हम परिपक्व लोगों को ज्ञान सिखाते हैं, लेकिन जो ज्ञान हम सिखाते हैं वह इस दुनिया से नहीं है। यह इस दुनिया के शासकों की बुद्धि नहीं है, जो अपनी शक्ति खो रहे हैं। परन्तु हम परमेश्वर का वह गुप्त ज्ञान बोलते हैं जो अब तक सब से छिपा हुआ है। परमेश्वर ने हमारी महिमा के लिए इस ज्ञान की योजना बनाई। उसने दुनिया शुरू होने से पहले इसकी योजना बनाई थी। इस ज्ञान को दुनिया के किसी भी शासक ने नहीं समझा। अगर वे इसे समझ गए होते, तो वे हमारे महान और गौरवशाली प्रभु को सूली पर नहीं मारते। लेकिन जैसा कि शास्त्र कहता है, फिर भी सिद्ध लोगों में हम ज्ञान सुनाते हैं, परन्तु इस संसार का और इस संसार के नाश होनेवाले हाकिमों का ज्ञान नहीं; परन्तु हम परमेश्‍वर का वह गुप्‍त ज्ञान, भेद की रीति पर बताते हैं, जिसे परमेश्‍वर ने सनातन से हमारी महिमा के लिये ठहराया। जिसे इस संसार के हाकिमों में से किसी ने नहीं जाना, क्योंकि यदि वे जानते तो तेजोमय प्रभु को क्रूस पर न चढ़ाते। परन्तु जैसा लिखा है, “जो बातें आँख ने नहीं देखीं और कान ने नहीं सुनीं, और जो बातें मनुष्य के चित में नहीं चढ़ीं, वे ही हैं जो परमेश्‍वर ने अपने प्रेम रखनेवालों के लिये तैयार की हैं।” 1 कुरिन्थियों 2:6-9

परमेश्वर पृथ्वी पर उतरे?

इससे पहले कि हम आगे बढ़ें, मुझे लगता है कि मुझे थोड़ा और समझाने की जरूरत है। यह अनहोनी बात लगती है जब आप पढ़ते हैं कि महान सृष्टिकर्ता, परमेश्वर पृथ्वी पर आए। बाइबल में, प्रेरित यूहन्ना इसका जिक्र इस तरह करता है:

और वचन देहधारी हुआ; और अनुग्रह और सच्‍चाई से परिपूर्ण होकर हमारे बीच में डेरा किया, और हम ने उसकी ऐसी महिमा देखी, जैसी पिता के एकलौते की महिमा। यूहन्ना 1:14

हम मनुष्यों के लिए यह लगभग अनहोना है कि महान सृष्टिकर्ता मनुष्य बना। इसे थोड़ा समझने के लिए, आपको पहले परमेश्वर के बारे में और जानना होगा। एक ही ईश्वर है । परन्तु बाइबल में आप परमेश्वर पिता, परमेश्वर पुत्र और परमेश्वर पवित्र आत्मा के बारे में पढ़ते हैं। वे तीन अलग-अलग शख़्सियत हैं, लेकिन साथ में वे एक ही ईश्वर हैं। यह हमारी समझ से परे है, क्योंकि मानव जगत में इसकी तुलना करने वाला कुछ भी नहीं है।

blank

कुछ लोग इसकी तुलना पानी से करने की कोशिश करते हैं। पानी जमने पर भाप (गैस), तरल या बर्फ (ठोस) हो सकता है। एक अन्य मिसाल तिपतिया घास के पत्ते का है, जिसमें तीन छोटे पत्ते होते हैं। साथ में वे एक पत्ता बनाते हैं। लेकिन आप जिस भी चीज से इसकी तुलना करने की कोशिश करते हैं, कोई भी चीज दरअसल में ईश्वर के स्वरूप का बयान नहीं कर सकती है।

‘ईश्वर का पुत्र’ नाम प्रभु यीशु मसीह के देवत्व को दर्शाता है। उन्हें द वर्ड भी कहा जाता है, जो दुनिया की सृष्टि का हवाला देता है, जहां परमेश्वर ने बात की थी और जिससे दुनिया बन गई थी।

हमारे लिए इस ईश्वरीय प्रकृति के पहलु को समझना बहुत मुश्किल है। अगर आप और ज़्यादा जानना चाहते हैं, तो आप लेख पढ़ सकते हैं क्या परमेश्वर का एक पुत्र हो सकता है?औरक्या ईश्वर एक में तीन हो सकते हैं? (इस पेज के नीचे लिंक)

वह एक बच्चे के रूप में आया था

उद्धारकर्ता के आने की भविष्यवाणी दुनिया की शुरुआत से ही की गई थी। वह एक बच्चे के रूप में पैदा हुआ था। लेकिन वह कोई आम बच्चा नहीं था।

यीशु मसीह का जन्म इस प्रकार से हुआ, कि जब उसकी माता मरियम की मंगनी यूसुफ के साथ हो गई, तो उनके इकट्ठा होने से पहले ही वह पवित्र आत्मा की ओर से गर्भवती पाई गई। मत्ती 1:18

परमेश्वर की आत्मा ने मरियम को गर्भवती होने के लिए प्रेरित किया। वह कुँवारी थी, परन्तु परमेश्वर की आत्मा ने उसे गर्भवती होने के लिए प्रेरित किया। उसका बच्चा न केवल पूरी तरह से इंसान था, बल्कि पूरी तरह से ईश्वर भी था। उसका नाम यीशु होना था, जिसका अर्थ है ‘उद्धारकर्ता’।

और बालक बढ़ता, और बलवन्त होता, और बुद्धि से परिपूर्ण होता गया; और परमेश्‍वर का अनुग्रह उस पर था। लूका 2:40

जैसे-जैसे यीशु बड़ा होता गया, वह ज्ञान में बढ़ता गया। परमेश्वर उससे प्रसन्न हुआ और वे लोग भी जो उसे जानते थे। लूका 2:52

यीशु और अन्य बच्चों के बीच सबसे बड़ा फर्क यह था कि यीशु ने कभी पाप नहीं किया।

पतरस, एक चश्मदीद गवाह, इसका जिक्र इस तरह से करता है:

“न तो उसने पाप किया और न उसके मुँह से छल की कोई बात निकली। वह गाली सुनकर गाली नहीं देता था, और दु:ख उठाकर किसी को भी धमकी नहीं देता था, पर अपने आप को सच्‍चे न्यायी के हाथ में सौंपता था।” 1 पतरस 2:22-23

ईसा मसीह का संदेश

यीशु ने अपनी सार्वजनिक सेवकाई तब शुरू की जब वह तकरीबन तीस साल का था। 2 लगभग तीन वर्षों की छोटे समय में ही, यीशु ने चारों ओर सफर करके और भी लोगों को शिक्षा दी। उनका संदेश एकदम साफ था: अपने पापी, स्वार्थी जीवन से पश्चाताप करो और परमेश्वर की ओर वापस मुड़ो।

उस समय से यीशु ने प्रचार करना और यह कहना आरम्भ किया, “मन फिराओ क्योंकि स्वर्ग का राज्य निकट आया है।” मत्ती 4:17

उन्होंने यह भी साफ किया कि सिर्फ कुछनियमों और परंपराओंके अनुसार ईश्वर की सेवा नहीं की जानी चाहिए। सबसे जरूरी बात यह है कि आप सच्चे मन से और दिल से परमेश्वर की सेवा करते हैं। यीशु ने धार्मिक अगुवों को उनके पाखंडी व्यवहार का हिसाब देने के लिए बुलाया।

तुहे कपटियो, यशायाह ने तुम्हारे विषय में यह भविष्यद्वाणी ठीक ही की है : ‘ये लोग होठों से तो मेरा आदर करते हैं, पर उनका मन मुझ से दूर रहता है।* और ये व्यर्थ मेरी उपासना करते हैं, क्योंकि मनुष्यों की विधियों को धर्मोपदेश करके सिखाते हैं।’ ” मत्ती 15:7-9

अपने जीवन के दौरान, उन्होंने कई चमत्कार किए और अंधेपन, कोढ़ और अन्य बीमारियों से पीड़ित लोगों को ठीक किया। “प्रभु का आत्मा मुझ पर है, इसलिये कि उसने कंगालों को सुसमाचार सुनाने के लिये मेरा अभिषेक किया है, और मुझे इसलिये भेजा है कि बन्दियों को छुटकारे का और अंधों को दृष्‍टि पाने का सुसमाचार प्रचार करूँ और कुचले हुओं को छुड़ाऊँ, और प्रभु के प्रसन्न रहने के वर्ष का प्रचार करूँ।” लूका 4:18-19

यीशु ने यशायाह 61:1 से एक भविष्यवाणी को अपने ऊपर लागू किया:

तब अंधों की आँखें खोली जाएँगी और बहिरों के कान भी खोले जाएँगे; तब लंगड़ा हरिण की सी चौकड़ियाँ भरेगा और गूँगे अपनी जीभ से जयजयकार करेंगे। क्योंकि जंगल में जल के सोते फूट निकलेंगे और मरुभूमि में नदियाँ बहने लगेंगी। यशायाह 35:5-6

उसने उनके सामने इतने चिह्न दिखाए, तौभी उन्होंने उस पर विश्‍वास न किया यूहन्ना 12:37 लेकिन लोगों के लिए उनकी चेतावनी साफ थी:

“मैं तुमसे कहता हूँ कि नहीं; परन्तु यदि तुम मन न फिराओगे तो तुम सब भी इसी रीति से नष्‍ट होगे।” लूका 13:5

उन्होंने चेलों के एक समूह को एक जगह जमा किया। उसने उन्हें परमेश्वर के राज्य के बारे में और परमेश्वर की नजर में जरूरी बातों के बारे में सिखाया: यह भरोसा करना कि वह परमेश्वर का बेटा और संसार का उद्धारकर्ता है। इसलिए हमें परमेश्वर से प्रेम करना चाहिए, उसके लिए ज़िंदगी जीनी चाहिए और अपने पड़ोसी से अपने समान मोहब्बत करनी चाहिए।

उन्होंने उससे कहा, “परमेश्‍वर के कार्य करने के लिये हम क्या करें?” यीशु ने उन्हें उत्तर दिया, “परमेश्‍वर का कार्य यह है कि तुम उस पर, जिसे उसने भेजा है, विश्‍वास करो।” यूहन्ना 6:28-29

यीशु ने उससे कहा, “मार्ग और सत्य और जीवन मैं ही हूँ; बिना मेरे द्वारा कोई पिता के पास नहीं पहुँच सकता। यूहन्ना 14:6

उसने उससे कहा, “तू परमेश्‍वर अपने प्रभु से अपने सारे मन और अपने सारे प्राण और अपनी सारी बुद्धि के साथ प्रेम रख। बड़ी और मुख्य आज्ञा तो यही है। और उसी के समान यह दूसरी भी है कि तू अपने पड़ोसी से अपने समान प्रेम रख। मत्ती 22:37-39

इसलिये पहले तुम परमेश्‍वर के राज्य और उसके धर्म की खोज करो तो ये सब वस्तुएँ भी तुम्हें मिल जाएँगी। मत्ती 6:33

उनका कमीशन

यीशु हमें विदा करने के लिए पृथ्वी पर नहीं आए। वह महान और पराक्रमी सृष्टिकर्ता के रूप में सेवा करने के लिए नहीं आया था। वह हमें बचाने आया था।

परमेश्‍वर ने अपने पुत्र को जगत में इसलिये नहीं भेजा कि जगत पर दण्ड की आज्ञा दे, परन्तु इसलिये कि जगत उसके द्वारा उद्धार पाए। यूहन्ना 3:17

वह हमें हमारी (आध्यात्मिक) मौत से बचाने के लिए आया था। वह परमेश्वर और इंसान के बीच के संबंध को दुरुस्त करने आया था। वह हमारे पापों की माफी को मुमकिन करने आया था।

उसी ने अपने आप को हमारे पापों के लिये दे दिया, ताकि हमारे परमेश्‍वर और पिता की इच्छा के अनुसार हमें इस वर्तमान बुरे संसार से छुड़ाए। उसकी स्तुति और बड़ाई युगानुयुग होती रहे। आमीन। गलातियों 1:4-5

इस योजना को पूरा करने में काबिल होने के लिए, उसे हमारे पापों की सजा को रद्द करना पड़ा। हम मौत की सजा के पात्र हैं, क्योंकि हम अपने व्यवहार और अपने कर्मों से ईश्वर का अनादर करते रहते हैं। हमारे लिए मरने के ज़रिये, यीशु ने खुद पर सजा ले ली। क्योंकि वह हमारे जगह मरा, हमें परमेश्वर के द्वारा धर्मी घोषित किया गया है।

उनकी पीड़ा और मृत्यु

यीशु को ठीक-ठीक पता था कि वह इस दुनिया में क्यों आया है। वह जानता था कि आगे उसके लिए क्या रखा है और उसने अपने शिष्यों को ऐसा बताया भी।

उस समय से यीशु अपने चेलों को बताने लगा, “अवश्य है कि मैं यरूशलेम को जाऊँ, और पुरनियों, और प्रधान याजकों, और शास्त्रियों के हाथ से बहुत दु:ख उठाऊँ; और मार डाला जाऊँ; और तीसरे दिन जी उठूँ।” मत्ती 16:21

इस भविष्यवाणी को सच होने में ज़्यादा वक़्त नहीं लगा। धर्मगुरु उससे थक चुके थे। उन्होंने महसूस किया कि उनके सम्मान और शक्ति को खतरा है और उन्होंने उससे छुटकारा पाने का रास्ता खोजा। उन्होंने उसे गिरफ्तार कर लिया और उसे महायाजक (उस समय के आध्यात्मिक नेता) के पास ले गए। उस पर बहुत सी बातों का झूठा आरोप लगाया गया था, और आखिरकार में उन्होंने उसपर गलत मुकदमा किया।

परन्तु वह मौन साधे रहा, और कुछ उत्तर न दिया। महायाजक ने उससे फिर पूछा, “क्या तू उस परम धन्य का पुत्र मसीह है?” यीशु ने कहा, “मैं हूँ : और तुम मनुष्य के पुत्र को सर्वशक्‍तिमान की दाहिनी ओर बैठे, और आकाश के बादलों के साथ आते देखोगे।” मरकुस 14:61-62

इसे समझे बिना, उन्होंने उसकी दुनियावी पहचान के आधार पर उसे मौत की सजा सुनाई।

क्योंकि उस देश पर रोमियों का कब्जा था, धार्मिक नेताओं को रोमन गवर्नर से यीशु को मौत की सजा देने की रजामंदी माँगनी पड़ी।

जब यीशु हाकिम के सामने खड़ा था तो हाकिम ने उससे पूछा, “क्या तू यहूदियों का राजा है?” यीशु ने उससे कहा, “तू आप ही कह रहा है।” जब प्रधान याजक और पुरनिए उस पर दोष लगा रहे थे, तो उसने कुछ उत्तर नहीं दिया। मत्ती 27:11-12

गवर्नर पीलातुस को ऐसा कोई आरोप नहीं मिला जिसके खिलाफ वह यीशु को मौत की सजा दे सके, लेकिन वह उसके खिलाफ आई बड़ी भीड़ से डर गया था;

यह सुन पिलातुस ने उनसे फिर पूछा, “तो जिसे तुम यहूदियों का राजा कहते हो, उसको मैं क्या करूँ?” वे फिर चिल्‍लाए, “उसे क्रूस पर चढ़ा दे!” पिलातुस ने उनसे कहा, “क्यों, इसने क्या बुराई की है?” परन्तु वे और भी चिल्‍लाए, “उसे क्रूस पर चढ़ा दे!” मरकुस 15:12-14

जब पिलातुस ने देखा कि कुछ बन नहीं पड़ता परन्तु इसके विपरीत हुल्‍लड़ बढ़ता जाता है, तो उसने पानी लेकर भीड़ के सामने अपने हाथ धोए और कहा, “मैं इस धर्मी के लहू से निर्दोष हूँ; तुम ही जानो।” मत्ती 27:24

धार्मिक नेता यीशु को एक पहाड़ी पर ले गए, जहाँ उन्हें सूली पर लटका दिया गया। मौत की सजा को अंजाम देने के लिए क्रॉस सबसे भीषण और अपमानजनक तरीकों में से एक है। यीशु ने बिना विरोध किए लज्जा और दर्द को सह लिया, क्योंकि यह परमेश्वर की योजना के अनुसार था।

लेकिन उसने केवल शर्म और शारीरिक दर्द को ही नहीं सहा। क्रूस पर उसने हमारे पापों के लिए परमेश्वर की सजा को सहा। उस पर परमेश्वर का गुस्सा उण्डेला गया। एक इंसान के तौर पर उन्होंने परमेश्वर के द्वारा त्यागे जाने को महसूस किया। यही वह सजा थी जिसके योग्य थे हम, अपने पापी व्यवहार की वजह से ।

दोपहर होने पर सारे देश में अन्धियारा छा गया, और तीसरे पहर तक रहा। तीसरे पहर यीशु ने बड़े शब्द से पुकार कर कहा, “इलोई, इलोई, लमा शबक्‍तनी?” जिसका अर्थ यह है, “हे मेरे परमेश्‍वर, हे मेरे परमेश्‍वर, तू ने मुझे क्यों छोड़ दिया?” मरकुस 15:33-34

जब वह क्रूस पर मरा, जब उसका खून बह रहा था, उसने हमारे पापों के लिए पूरी कीमत चुकाई।

इसके बाद उसने अपनी आत्मा को त्याग दिया और मर गया। सूली पर चढ़ाए जाने की निगरानी करने वाले रोमन सैनिकों में से एक ने यह तसल्ली करने के लिए यीशु की पसली में अपना भाला घोंप कर देखा कि वह मर चुका है या नहीं। यीशु के दोस्तों ने पूछा कि क्या वे उसे दफना सकते हैं और उसे एक कब्र में ले गये, जिसे चट्टान में तराशा गया था।

इस बारे में लेख में और पढ़ें क्या यीशु वास्तव में मर गया था ? और क्या वास्तव में यीशु ही वह था जो क्रूस पर लटकाया गया था ?

यीशु मसीह ने मरकर दुनिया को दिखाया कि यह मसला कितना संजीदा है कि हमने परमेश्वर की इज्जत को चोट पहुंचाई। लेकिन मरकर उसने यह भी दिखाया कि परमेश्वर हमसे कितना प्यार करता है।

यीशु के दोस्तों ने उसे दफनाने के लिए कहा और उसे एक चट्टान की कब्र में रखा गया।

blank

उनका पुनरुत्थान

लेकिन यीशु की मृत्यु ही अंत नहीं थी। परमेश्वर ने दिखाया कि वह मौत से भी ज़्यादा ताकतवर है। तीन दिनों के बाद यीशु कब्र से उठे और अपने चेलों और लोगों के बड़े समूहों के सामने हाजिर हुए। अब, भाइयों और बहनों, मैं चाहता हूँ कि तुम उस सुसमाचार को याद करो जो मैंने तुम्हें सुनाया था। आपको वह खुशखबरी संदेश मिला है, और आप उस पर अपने जीवन का आधार रखें। “और कैफा को तब बारहों को दिखाई दिया। फिर वह पाँच सौ से अधिक भाइयों को एक साथ दिखाई दिया, जिनमें से बहुत से अब तक जीवित हैं पर कुछ सो गए।” 1 कुरिन्थियों 15:5-6

उसने दु:ख उठाने के बाद बहुत से पक्‍के प्रमाणों से अपने आप को उन्हें जीवित दिखाया, और चालीस दिन तक वह उन्हें दिखाई देता रहा, और परमेश्‍वर के राज्य की बातें करता रहा। प्रेरितों 1:3

अपनी मृत्यु और पुनरुत्थान के ज़रिये उसने हमारे लिए नया जीवन मुमकिन बनाया। अगर हम उसकी मुक्ति की योजना में भरोसा करते हैं, तो हम उसके साथ आध्यात्मिक रूप से मर सकते हैं, और फिर से नया जन्म ले सकते हैं। हम नया जीवन हासिल करेंगे, क्योंकि उसने हमारे पापों का दंड वहन किया था। हम फिर से इसवार का सामना कर सकते हैं।

यीशु ने उससे कहा, “पुनरुत्थान और जीवन मैं ही हूँ; जो कोई मुझ पर विश्‍वास करता है वह यदि मर भी जाए तौभी जीएगा, और जो कोई जीवित है और मुझ पर विश्‍वास करता है, वह अनन्तकाल तक न मरेगा। क्या तू इस बात पर विश्‍वास करती है?” यूहन्ना 11:25-26

हमारी शारीरिक मृत्यु अब अंत नहीं है। ईश्वर के साथ अनंत जीवन की शुरुआत हो गई है।

जिसका यह विश्‍वास है कि यीशु ही मसीह है, वह परमेश्‍वर से उत्पन्न हुआ है; और जो कोई उत्पन्न करनेवाले से प्रेम रखता है, वह उस से भी प्रेम रखता हैं जो उससे उत्पन्न हुआ है। 1 यूहन्ना 5:1

“क्योंकि परमेश्‍वर ने जगत से ऐसा प्रेम रखा कि उसने अपना एकलौता पुत्र दे दिया, ताकि जो कोई उस पर विश्‍वास करे वह नष्‍ट न हो, परन्तु अनन्त जीवन पाए। यूहन्ना 3:16

मरे हुओं में से जी उठने के बाद, यीशु कई बार अपने चेलों के सामने प्रकट हुए। अपने चेलों की मौजूदगी में वह स्वर्ग में अपने पिता के पास लौट गया।

यह कहकर वह उन के देखते–देखते ऊपर उठा लिया गया, और बादल ने उसे उनकी आँखों से छिपा लिया। उसके जाते समय जब वे आकाश की ओर ताक रहे थे, तो देखो, दो पुरुष श्‍वेत वस्त्र पहिने हुए उन के पास आ खड़े हुए, और उनसे कहा, “हे गलीली पुरुषो, तुम क्यों खड़े आकाश की ओर देख रहे हो? यही यीशु, जो तुम्हारे पास से स्वर्ग पर उठा लिया गया है, जिस रीति से तुम ने उसे स्वर्ग को जाते देखा है उसी रीति से वह फिर आएगा।” प्रेरितों 1:9-11

blank

हमारा भविष्य

हम अपनी सजा से बरी हो गए हैं और अब परमेश्वर के साथ संबंध सही किया जा सकता है।

अर्थात् परमेश्‍वर की वह धार्मिकता जो यीशु मसीह पर विश्‍वास करने से सब विश्‍वास करनेवालों के लिये है। क्योंकि कुछ भेद नहीं। रोमियों 3:22

अगर हम अपने पाप और अपने व्यवहार पर पछताते हैं, और अगर हम उसकी माफी कुबूल करते हैं, तो हम एक नया (आध्यात्मिक) जीवन शुरू कर सकते हैं। आध्यात्मिक तौर पर, हमारा नया जन्म होता हैं।

यीशु ने उसको उत्तर दिया, “मैं तुझ से सच सच कहता हूँ, यदि कोई नये सिरे से न जन्मे तो परमेश्‍वर का राज्य देख नहीं सकता।” यूहन्ना 3:3

वे न तो लहू से, न शरीर की इच्छा से, न मनुष्य की इच्छा से, परन्तु परमेश्‍वर से उत्पन्न हुए हैं। यूहन्ना 1:13

हम मरते दम तक धरती पर इंसानों की तरह रहेंगे। लेकिन हमारी मौत के बाद एक शानदार भविष्य हमारा इंतजार कर रहा है।

मेरे पिता के घर में बहुत से रहने के स्थान हैं, यदि न होते तो मैं तुम से कह देता; क्योंकि मैं तुम्हारे लिये जगह तैयार करने जाता हूँ। और यदि मैं जाकर तुम्हारे लिये जगह तैयार करूँ, तो फिर आकर तुम्हें अपने यहाँ ले जाऊँगा कि जहाँ मैं रहूँ वहाँ तुम भी रहो। यूहन्ना 14:2-3

परमेश्वर हमारे अंदर रहते हैं

परन्तु जब वह सहायक आएगा, जिसे मैं तुम्हारे पास पिता की ओर से भेजूँगा, अर्थात् सत्य का आत्मा जो पिता की ओर से निकलता है, तो वह मेरी गवाही देगा। यूहन्ना 15:26

यदि आप यीशु मसीह में भरोसा करते हैं और उसकी माफी को कुबूल करते हैं, तो परमेश्वर का पवित्र आत्मा आपके दिल में निवास करेगा और वह आपको परमेश्वर की इच्छा के अनुसार ज़िंदगी जीने में मदद करेगा।

फैसला

लेकिन इस खुशखबरी का एक दूसरा पहलू भी है। किसी दिन यीशु पृथ्वी पर वापस आएंगे और सभी लोगों का उनके कर्मों और व्यवहार के आधार पर फैसला करेंगे। परमेश्वर किसी के भी पाप को नज़रअंदाज़ नहीं कर सकते।

और राज्य का यह सुसमाचार सारे जगत में प्रचार किया जाएगा, कि सब जातियों पर गवाही हो, तब अन्त आ जाएगा। मत्ती 24:14

हमने पहले देखा था कि कोई भी खड़ा नहीं हो पाएगा, जब तक कि आप यीशु द्वारा दी गई जीवन रेखा को नहीं पकड़ लेते।

जो पुत्र पर विश्‍वास करता है, अनन्त जीवन उसका है; परन्तु जो पुत्र की नहीं मानता, वह जीवन को नहीं देखेगा, परन्तु परमेश्‍वर का क्रोध उस पर रहता है।” यूहन्ना 3:36

हर कोई जो उसकी मुक्ति की योजना को कुबूल करने से इनकार करता है, उसे अपने पाप और स्वार्थी व्यवहार के लिए सजा भुगतनी होगी।

क्योंकि जो कोई अपना प्राण बचाना चाहे, वह उसे खोएगा; और जो कोई मेरे लिये अपना प्राण खोएगा, वह उसे पाएगा। यदि मनुष्य सारे जगत को प्राप्‍त करे, और अपने प्राण की हानि उठाए, तो उसे क्या लाभ होगा? या मनुष्य अपने प्राण के बदले क्या देगा? मनुष्य का पुत्र अपने स्वर्गदूतों के साथ अपने पिता की महिमा में आएगा, और उस समय ‘वह हर एक को उसके कामों के अनुसार प्रतिफल देगा।’ मत्ती 16:25-27

धर्मी और पवित्र परमेश्वर को उन लोगों को सजा देना चाहिए जो उसके पुत्र के द्वारा उद्धार में विश्वास नहीं करना चाहते हैं, अनन्त मृत्यु। बाइबिल नरक को आग, दांत पीसना, आंसू और दुख की जगह के रूप में बयान करती है। मुझे आशा है कि आप समय रहते पश्चाताप करेंगे और परमेश्वर की प्रेम से भारी क्षमा को स्वीकार करेंगे। “फिर स्वर्ग का राज्य उस बड़े जाल के समान है जो समुद्र में डाला गया, और हर प्रकार की मछलियों को समेट लाया। और जब जाल भर गया, तो मछुए उसको किनारे पर खींच लाए, और बैठकर अच्छी–अच्छी तो बर्तनों में इकट्ठा कीं और निकम्मी निकम्मी फेंक दीं। जगत के अन्त में ऐसा ही होगा। स्वर्गदूत आकर दुष्‍टों को धर्मियों से अलग करेंगे, और उन्हें आग के कुण्ड में डालेंगे। जहाँ रोना और दाँत पीसना होगा। मत्ती 13:47-50

तुम्हारी चाल

जो उस पर विश्‍वास करता है, उस पर दण्ड की आज्ञा नहीं होती, परन्तु जो उस पर विश्‍वास नहीं करता, वह दोषी ठहर चुका; इसलिये कि उसने परमेश्‍वर के एकलौते पुत्र के नाम पर विश्‍वास नहीं किया। और दण्ड की आज्ञा का कारण यह है कि ज्योति जगत में आई है, और मनुष्यों ने अन्धकार को ज्योति से अधिक प्रिय जाना क्योंकि उनके काम बुरे थे। यूहन्ना 3:18-19

मुझे आशा है कि परमेश्वर के पुत्र यीशु मसीह की खुशखबरी ने आपको सोचने पर मजबूर कर दिया है।

क्रूस पर मरने के ज़रिये, यीशु ने परमेश्वर की दया और प्रेम को दिखाया। वह हमें पश्चाताप करने की दरख्वास्त करता है। जब एक आम इंसान आपके या मेरे लिए मर गया होता, तो हमारे पापों के लिए पश्चाताप करने की कोई वजह नहीं होती। परन्तु परमेश्वर ने पाप के मसले को हल करने के लिए अपने ही बेटे को भेजा। क्या आप जानते हैं कि परमेश्वर आपसे कितना प्यार करते हैं?

इस अध्याय में, मैंने परमेश्वर की शानदार योजना को समझाने की कोशिश की है। मैं कल्पना कर सकता हूं कि आपके पास अभी और भी सवाल हैं। उनमें से कई को इस पेज के निचले भाग के लेखों में समझाया गया है। आप अपने सवाल चैट के ज़रिये भी पूछ सकते हैं (यदि आपके देश में यह सुविधा मौजूद हो)।

मुझे आशा है कि यह साफ जाहीर हो गया है कि ईश्वर के पास आपके लिए असीम प्रेम है। वह आपसे इतना प्रेम करता है कि उसने मनुष्य बनकर अपने पुत्र यीशु मसीह के द्वारा स्वयं को दीन किया। उसने अपने आप पर ज़ुल्म होने दिया जिसे क्रूस पर कीलों से ठोंक दिया गया, जहां वह आपके पापों के लिए सजा को सहन करते हुए मारा गया। उसने आपके और मेरे लिए प्यार से ऐसा किया, क्योंकि वह आपके साथ दोस्ती करना चाहता है। परन्तु परमेश्‍वर हम पर अपने प्रेम की भलाई इस रीति से प्रगट करता है कि जब हम पापी ही थे तभी मसीह हमारे लिये मरा। अत: जब कि हम अब उसके लहू के कारण धर्मी ठहरे, तो उसके द्वारा परमेश्‍वर के क्रोध से क्यों न बचेंगे? रोमियों 5:8-9

मैं आपको अगले अध्याय को पढ़ने के लिए आमंत्रित करना चाहता हूं, जिसमें आपको अपने जीवन का सबसे जरूरी विकल्प बनाने के लिए कहा जाएगा।

T0805

  1. ये भविष्यवाणियां करीब 2,000 साल पहले पूरी हुई थीं। और वह केवल कोई उद्धारकर्ता नहीं था। परमेश्वर अपनी मुक्ति की योजना को पूरा करने के लिए खुद पृथ्वी पर आए।
  2. ‘जब यीशु आप उपदेश करने लगा, तो लगभग तीस वर्ष की आयु का था और (जैसा समझा जाता था) यूसुफ का पुत्र था; और वह एली का’ लूका 3:23