अध्याय 1 ~ आपका जीवन क्यों महत्वपूर्ण है

मैं आपके लिए यह कहानी लिख रहा हूँ और हमारे यहाँ आज का दिन बहुत ही खूबसूरत है, और हो भी क्यूँ ना वसंत का मौसम जो चल रहा है। मैं अपने बगीचे में हूं, जो की खिले हुए फूलों से घिरा हुआ हैं और एक फूल से दूसरे फूल पर तितलियां उड़ रही हैं। उनमें से एक बड़ी तितली, पीले फूल पर उतर रही है और फूल का रस पी रही है। मैं उस तितली की तरफ काफी एहतियात से बढ़ रहा हूँ और उसे गौर से देख रहा हूँ। मैं उसके सुंदर आकार और रंगों से आश्चर्य चकित हूं। जब उसका रस पीना हो जाता है, तो यह अपने शरीर पर पराग की एक मोटी परत के लिए उड़ जाता है। और उसका सफर दूसरे फूल तक जारी है।

blank

क्या आप जानते हैं कि हमारे ग्रह पृथ्वी पर लगभग 4,00,000 तरह तरह के फूल और पौधे पाए जाते हैं? क्या आप कल्पना कर सकते हैं? मैं जितने भी फूलों को देखता हूं, उनके बीच की भिन्नता मुझे हर बार आश्चर्य चकित कर देते है। हर एक फूल में अपने आप सुंदर रंग और एक अद्वितीय आकार का है।

क्योंकि कुदरत की कारीगरी ने मुझे आश्चर्य चकित कर दिया, मैंने कुदरत का अध्ययन करना शुरू कर दिया। वे चीज़े अद्भुत हैं, लेकिन जो पौधों, जानवरों और मनुष्यों को जीवित बनाता है, वह और भी आश्चर्यजनक है।

हमारा शरीर खुद एक चमत्कार है।

क्या आपने कभी डू-इट-योरसेल्फ किट खरीदी है? मिसाल के तौर पर एक किताबों की अलमारी। किट में बहुत सारी अलमारियां, स्क्रू और एक मैनुअल होता है। आपका शरीर कुछ ऐसा ही है। यह अरबों कोशिकाओं से बनी होती है और हर कोशिका में आपके पूरे शरीर के लिए एक मैनुअल होती है। इस मैनुअल को डीएनए कहा जाता है – आपके शरीर का एक खाका। जैसा आप दिखते है वैसा आपका डी एन ए आपको दिखाता है।

यहां तक कि जिस पहली सेल से आपके जीवन की शुरुआत हुई, उसके पास पहले से ही यह पूरा खाका था। आपका डीएनए तय करता है कि आपके शरीर का निर्माण कैसे होता है – सिर, हाथ, पैर, आपकी आंखों का रंग और आपकी नाक का आकार। लेकिन यह यह भी तय करता है कि आपके शरीर के बाहरी अंग और अंदरूनी अंग एक साथ कैसे काम करते हैं। क्या यह ताज्जुब वाली बात नहीं है?

blank

तो डीएनए आपके शरीर का मैनुअल है। यह कुछ हद तक कंप्यूटर सॉफ्टवेयर के कोड जैसा होता है। आपके कंप्यूटर के ठीक से काम करने के लिए यह कोड बहुत ही जरूरी है। यह आपके कंप्यूटर पर इंटरनेट सर्फ करना, या एक चिट्ठी लिखना मुमकिन बनाती है।

शोधकर्ताओं ने अपनी खोज में पाया की कि अगर आपको मानव डीएनए [1] को खोल के एक किताब में लिखे, तो आपको 1 मिलियन से अधिक पेज की जरूरत होगी! यह 2,500 से अधिक बड़ी मात्रा में है। और यह कोड आपके शरीर की हर कोशिका में जमा होता है [2]।

क्या जीवन दुर्घटना से शुरू हुआ था?

कई वैज्ञानिक मानते हैं कि पृथ्वी पर जीवन की शुरुआत संयोग से हुई थी। उन्हें लगता है कि यह छोटे छोटे स्टेप्स और रासायनिक प्रक्रियाओं की एक श्रृंखला के कारण हुआ था। लेकिन अधिक से अधिक वैज्ञानिकों ने महसूस किया है कि डीएनए इतना जटिल है कि यह किसी आकस्मिक रासायनिक प्रतिक्रियाओं की एक श्रृंखला से उत्पन्न नहीं हो सकता है।

आइए फिर से कंप्यूटर सॉफ्टवेयर के बारे में सोचते हैं। हो सकता है कि आप एक कंप्यूटर प्रोग्रामर ना हो, इसलिए आपको शायद यह नहीं पता होगा कि एक मानव कोशिका में डीएनए विंडोज कंप्यूटर सॉफ्टवेयर जितना ही जटिल है। क्या आपको लगता है कि यह संभावना है कि विंडोज़ जैसे जटिल कंप्यूटर सॉफ्टवेयर संयोगों की एक श्रृंखला से अस्तित्व में आए? इस प्रोग्राम में लगभग उतने ही निर्देश (कोड) हैं जितने मानव डीएनए [3] विंडोज़ को हज़ारों कंप्यूटर प्रोग्रामर्स ने बनाया था, जिन्होंने इस पर वर्षों तक काम किया।

डिज़ाइन के बिना कोई कोड नहीं है। कोई भी कंप्यूटर सॉफ्टवेयर दुर्घटनावश, बिना डिजाइन के और उस पर काम करने वाले प्रोग्रामर के बिना अस्तित्व में नहीं आया। यदि हमारा डीएनए कंप्यूटर सॉफ्टवेयर जितना ही जटिल है, तो क्या मनुष्य दुर्घटनावश अस्तित्व में आ सकता हैं?

blank

[1] ह्यूमन जीनोम हाइट (अंग्रेजी)

[2] नैशनल जीअग्रैफिक – हाउ मेनी सेल्स इन योर बॉडी (अंग्रेजी)

[3] लाइंस ऑफ कोड इन विंडोज़ 10 , सोर्स कोड लेंगथ (अंग्रेजी)

.